10 Home Remedies For Typhoid In Hindi

1
85
10 Home Remedies For Typhoid In Hindi
10 Home Remedies For Typhoid In Hindi

Home Remedies For Typhoid In Hindi टाइफाइड बुखार एक जीवाणु संक्रमण है जो दूषित पानी या भोजन के कारण होता है। यह आंतों के मार्ग को प्रभावित करता है और फिर रक्तप्रवाह में फैल जाता है। इसे “आंतों का बुखार” भी कहा जाता है क्योंकि यह मुख्य रूप से हमारी आंतों को प्रभावित करता है।




यह साल्मोनेला टाइफी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। खराब साफ-सफाई की स्थिति, असुरक्षित पेयजल और दूषित भोजन टाइफाइड के सामान्य कारण हैं। जल्दी ठीक होने को बढ़ावा देने के लिए, सर्वोत्तम परिणामों के लिए नियमित दवा के साथ घरेलू उपचार का उपयोग करें।

10 Home Remedies For Typhoid In Hindi

टाइफाइड बुखार के लक्षण और लक्षण

  • बुखार और ठंड लगना
  • सरदर्द
  • दस्त के साथ पेट दर्द
  • समुद्री बीमारी और उल्टी
  • दुर्बलता
  • भूख में कमी
  • बढ़ा हुआ जिगर
  • त्वचा के चकत्ते
  • दु: स्वप्न
  • नाक से खून आना
  • प्रलाप

टाइफाइड के लिए यहां कुछ समय-परीक्षणित घरेलू उपचार दिए गए हैं।

1. तरल पदार्थ का सेवन बढ़ाएँ

टाइफाइड बुखार से उल्टी और दस्त हो सकते हैं जिससे गंभीर निर्जलीकरण हो सकता है। डिहाइड्रेशन से बचने के लिए तरल पदार्थों का सेवन करते रहें।Home Remedies For Typhoid In Hindi  हाइड्रेटेड रहने से शरीर से अपशिष्ट पदार्थों और विषाक्त पदार्थों को समय पर खत्म करने में भी मदद मिलती है। टाइफाइड बुखार से उल्टी और दस्त हो सकते हैं जिससे गंभीर निर्जलीकरण हो सकता है। पानी के अलावा फलों के रस, नारियल पानी और सूप का सेवन करें।




2. कोल्ड कंप्रेस का प्रयोग करें

तेज बुखार से निपटने के लिए, तापमान को कम करने के लिए कोल्ड कंप्रेस का इस्तेमाल करें। आप बगल, पैर, कमर और हाथों को स्पंज कर सकते हैं। हाथ-पांव पर कोल्ड कंप्रेस लगाने से बुखार सबसे प्रभावी रूप से कम होता है।

आप बर्फीले पानी में एक वॉशक्लॉथ भी भिगो सकते हैं, अतिरिक्त पानी निकाल कर अपने माथे पर रख सकते हैं। वॉशक्लॉथ को बार-बार बदलें।

3. ओआरएस पिएं

टाइफाइड बुखार के कारण होने वाले निर्जलीकरण से निपटने के लिए ओआरएस सबसे अच्छा उपाय है। सुनिश्चित करें कि आपके पास डब्ल्यूएचओ-अनुशंसित ओआरएस है। किसी भी केमिस्ट से पाउच खरीदें या घर पर स्वादिष्ट स्वाद वाले टेट्रा पैक रखें। आप इसे एक लीटर उबले पानी में चीनी और नमक मिलाकर घर पर भी बना सकते हैं।

4. एप्पल साइडर सिरका लें

सेब का सिरका शरीर में उचित पीएच बनाए रखने में मदद करता है। यह त्वचा से गर्मी को बाहर निकालता है और इसलिए शरीर के तापमान को कम करता है। सेब के सिरके से डायरिया से होने वाले मिनरल्स के नुकसान की भरपाई हो जाती है। पानी में एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं, जरूरत हो तो शहद मिलाएं। भोजन से पहले पिएं।

5. तुलसी

पवित्र तुलसी एंटीबायोटिक और रोगाणुरोधी है। उबले हुए पानी में तुलसी मिलाएं और रोजाना तीन से चार कप पिएं। तुलसी प्रतिरक्षा को बढ़ाती है और पेट को शांत करती है। या आप पेस्ट बनाने के लिए 4-5 तुलसी/तुलसी के पत्ते ले सकते हैं। Home Remedies For Typhoid In Hindi इस पेस्ट में काली मिर्च पाउडर और केसर या केसर की कुछ किस्में मिलाएं। इन सबको मिलाकर तीन भागों में बांट लें। इस मिश्रण को हर भोजन के बाद लें।




6. लहसुन

लहसुन में मौजूद एंटीमाइक्रोबियल गुण टाइफाइड के बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करते हैं। लहसुन अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण टाइफाइड से ठीक होने में तेजी लाता है। यह प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है। दो लौंग खाली पेट खाएं। यह गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए अनुकूल नहीं है।

7. केले

केले बुखार को कम कर सकते हैं और टाइफाइड वाले लोगों में दस्त का इलाज कर सकते हैं। केले में पेक्टिन होता है, एक घुलनशील फाइबर जो आंतों को तरल पदार्थ को अवशोषित करने में मदद करता है, इस प्रकार दस्त का इलाज करता है। फल में मौजूद पोटेशियम दस्त के कारण खोए हुए इलेक्ट्रोलाइट्स को बदलने में मदद करता है। टाइफाइड होने पर यह सबसे अच्छी चीजों में से एक है।

8. त्रिफला चूर्ण

यह एक आवश्यक आयुर्वेदिक चूर्ण है जो बुखार और टाइफाइड पर सकारात्मक प्रभाव दिखाता है। यह साल्मोनेला टाइफी के विकास को रोकता है। केमिस्ट इसे पाउडर और टैबलेट के रूप में उपलब्ध कराते हैं।

9. लौंग

लौंग टाइफाइड पैदा करने वाले बैक्टीरिया से लड़ती है। लौंग के आवश्यक तेलों में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो टाइफाइड पैदा करने वाले बैक्टीरिया को मार सकते हैं। Home Remedies For Typhoid In Hindi यह टाइफाइड के कारण होने वाली मतली और उल्टी को भी कम करता है। लौंग के साथ पानी उबालें, एक कप में छान लें और रोजाना दो कप लें।

10. अनार

अनार टाइफाइड के खिलाफ एक प्रभावी घरेलू उपचार है। यह निर्जलीकरण को रोकने में मदद करता है। इसे फल के रूप में लें या रस निकाल लें।

एक चिकित्सक से परामर्श करें और सहायक चिकित्सा के रूप में घरेलू उपचार का उपयोग करें। उचित आराम, हल्का भोजन, साफ पानी और धैर्य से रोगी जल्दी ठीक हो जाता है।




पालन ​​​​करने के लिए युक्तियाँ:

  • संक्रमित व्यक्ति द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुओं का उपयोग करने से बचें। जैसे, तौलिया, कांच, रुमाल आदि।
  • उबला हुआ पानी ही पिएं।
  • मीठे पेय पदार्थों का सेवन न करें और कॉफी के लिए बहुत अधिक मना करें।
  • कच्ची सब्जियों और फलों का उपयोग करने से बचें जिन्हें आप छील नहीं सकते।
  • आंतों के जीवाणु वनस्पतियों को संतुलित करने के लिए दही, दही और छाछ का सेवन करें।
  • बिस्तर पर आराम जरूरी है क्योंकि यह बीमारी बहुत कमजोरी का कारण बनती है।

Disclaimer

इस साइट पर शामिल जानकारी केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर द्वारा चिकित्सा उपचार का विकल्प नहीं है। अद्वितीय व्यक्तिगत जरूरतों के कारण, पाठक को पाठक की स्थिति के लिए जानकारी की उपयुक्तता निर्धारित करने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge